हमेशा कुछ न कुछ सीखते रहें, यही सीखने की सोच सफलता का रास्ता है।

हमेशा सीखते रहना चाहिए। इससे उनका रवैया अच्छा रहता है। यह बदल जाता है और वह प्रगति की सीढ़ियों पर चढ़ता रहता है। यदि आप आगे बढ़ना चाहते हैं तो सीखना महत्वपूर्ण है।

आपके साथ भी कभी न कभी ऐसा हुआ होगा। आपने जिस काम में महारत हासिल की है उसमें आप असफल रहे हैं और आपको लगता है कि आप इस काम को चुटकी में कर लेंगे या यह आपके बाएं हाथ का खेल है। छोटा हो या बड़ा काम, स्कूल की परीक्षाएं हों या कोई बड़ी प्रतियोगिता, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि अति-आत्मविश्वास काम को बिगाड़ सकता है। जब भी हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण क्षण आता है, तो हमें अधिक सतर्क होकर अपना काम करना चाहिए क्योंकि हमारी थोड़ी सी लापरवाही जीवन की संभावना को समाप्त कर सकती है। वही आज हमारी कहानी में बताया गया है।

एक बार की बात है, एक ही शहर से दो अनजान लोग पैसा कमाने के लिए आए थे। दोनों ने अपना-अपना काम शुरू कर दिया। दोनों का अच्छा कारोबार था। एक समय में दोनों आगे बढ़ गए। पहले व्यक्ति ने सोचा, अब मेरा व्यवसाय शुरू हो गया है। अब मैं प्रगति पर जाऊंगा। लेकिन व्यापार में उतार-चढ़ाव आते हैं, यही उसके साथ हुआ। उस साल कारोबार में इतने उतार-चढ़ाव आए कि उसे साल के अंत में नुकसान उठाना पड़ा।

उसी समय, दूसरे व्यक्ति के व्यवसाय में भी उतार-चढ़ाव आया, लेकिन उसे नुकसान का सामना नहीं करना पड़ा। पहले व्यक्ति ने सोचा कि मैं उससे ज्यादा अनुभवी हूं, फिर भी वह मुझसे ज्यादा सफल है। जब वह उस व्यक्ति के पास पहुंचा, तो वह उसका आतिथ्य देखकर हैरान रह गया। पहले व्यक्ति ने अपने दूसरे व्यक्ति से कहा कि वह अनुभवी होने के बाद भी सफल नहीं है, लेकिन आप कम अनुभव के साथ भी सफल हैं, कैसे?

दूसरे व्यक्ति ने जवाब दिया, मैं अभी सीख रहा हूं। पहले व्यक्ति ने कहा मुझे कुछ समझ नहीं आया। दूसरे व्यक्ति ने उत्तर दिया कि मैं दूसरों की गलती और सफलता से सीखता हूं, केवल अपने ही नहीं, ताकि मैं अपने जीवन में बार-बार समान समस्याओं का सामना न करूं। अगर आता भी है तो आसानी से हल हो जाता है। तब उस व्यापारी को अपनी गलती का एहसास हुआ। उन्होंने एक नई शुरुआत की और समृद्ध हुए और आगे बढ़ते रहे।