अनुभव के बाद भी कौशल में सुधार होता है

सौम्या स्टार्टअप 'खेत' के सह-संस्थापक हैं, जो भारत में छोटे किसानों को अपने उत्पाद 'ग्रीनहाउस-इन-द-बॉक्स' के माध्यम से बेहतर पैदावार हासिल करने में मदद कर रहा है।

इस उत्पाद के माध्यम से, किसान 90% कम पानी की तुलना में कम जगह में सात गुना अधिक उपज देने में सक्षम हैं। इस उपलब्धि के लिए फोर्ब्स ने उन्हें 2019 की 30 अंडर 30 सूची में शामिल किया है। सौम्या शुरुआत से ही एक शानदार छात्र रही हैं। वह सेंट स्टीफन कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातक हैं। विज्ञान के साथ उनकी रुचि भी समकालीन मुद्दों में बनी रही। वह समाज के हाशिये पर रहने वाले लोगों की भलाई के लिए कई गतिविधियों में हिस्सा लेती थी। वह 'क्रांति' नामक एक सामाजिक अभियान के माध्यम से स्नातक होने के बाद यौनकर्मियों की बेटियों को शिक्षित करने के काम में शामिल हो गईं।

अपने प्रयासों के माध्यम से, उन्होंने चाईबासा में एक कौशल विकास केंद्र स्थापित किया, जो आतंक से पीड़ित एक जिला है। जहां सैकड़ों छात्रों को रोजगारपरक कौशल का प्रशिक्षण दिया गया। ये सभी अनुभव सामाजिक उद्यम बनने की दिशा में कदम थे। वह संक्षिप्त रूप से स्टार्टअप 'येलो लीफ सॉल्यूशन' से जुड़ी थीं, जो कम पढ़े-लिखे भारतीय युवाओं को व्यावसायिक प्रशिक्षण देती है। वह किसानों की दुर्दशा के बारे में सुनती रही और उनके लिए कुछ करना चाहती थी। वह अपने स्टार्टअप 'खेती' के भविष्य के साथियों सत्य रघु, आयुष और कौशिक के संपर्क में आईं, जो पहले से ही तेलंगाना के गांवों में खेती के कई अभ्यास कर रहे थे। 

उन्होंने पाया कि जलवायु परिवर्तन किसानों की दुर्दशा का एक प्रमुख कारण है। इसलिए, ऐसे उपाय भी किए जाने चाहिए जो जलवायु में परिवर्तन को प्रभावित न करें। वह ग्रीनहाउस में बदल गया। ग्रीनहाउस पहले से मौजूद हैं, लेकिन तब तक छोटे किसानों के लिए उन्हें वहन करना असंभव था। उन्हें एक ऐसी योजना बनानी पड़ी जो कम कीमत पर किसानों को बेहतर सुविधा दे सके। उन्होंने इंजीनियरों और कृषि विशेषज्ञों के साथ मिलकर ऐसा ग्रीनहाउस बनाने में कामयाबी हासिल की, जो सस्ता था, पानी की बचत करता था और वातावरण के तापमान को नियंत्रित करता था।

उन्होंने 2015 में स्टार्टअप 'खेती' शुरू किया और छोटे किसानों को इससे जोड़ा। वह किसानों को ग्रीनहाउस प्रदान करने तक ही सीमित नहीं थे, उन्होंने प्रशिक्षण, ऋण, उर्वरक और बाजार नियंत्रण तक उनकी मदद करना शुरू कर दिया। यहां सौम्या को एमबीए करने की जरूरत महसूस हुई। उसने एमबीए की पढ़ाई के दौरान फंड जुटाने, स्टार्टअप्स को मैनेज करने जैसी कुछ बुनियादी चीजें लीं। आगे वह जरूरतमंद किसानों को अपने स्टार्टअप की सेवाओं से जोड़ना चाहती है।