अपनी क्षमताएं अनंत ही क्यों न हो पर उसे पाने के लिए निरंतर प्रयास करते रहें।

क्षमताओं को नजरअंदाज न करें, और उन्हें साकार करने के लिए निरंतर प्रयास करतें रहें।

स्कॉटलैंड के सम्राट ब्रूस भी सिंहासन पर बैठने में सक्षम नहीं थे कि दुश्मनों ने आक्रमण किया। यह पाया गया कि बड़ी मुश्किल से उस पर फिर से हमला किया गया। हार कर बच गया। इस बार कई राजाओं ने हमला किया, इसलिए गरीब सिंहासन भी छीन लिया गया।

चौदह लगातार असफलताओं ने उनके सैनिकों को यह कहने के लिए प्रेरित किया कि ब्रूस के भाग्य में सब कुछ था, लेकिन जीत नहीं, जो उन्होंने छोड़ दिया। निराश ब्रूस एक पहाड़ी पर बैठा था। एक मकड़ी हवा में उड़कर और उसे पेड़ की शाखा से जोड़कर एक जाल बुनना चाहती थी, लेकिन हर बार जाल टूट जाता था। 

मकड़ी ने बीस बार कोशिश की, फिर भी हार नहीं मानी। अंत में यह 21 वीं बार सफल रहा, इसलिए ब्रूस ने उछल कर कहा - अभी सात अवसर बाकी हैं, मुझे अब हिम्मत क्यों हारनी चाहिए? एक बार फिर, पूरी शक्ति के साथ, वह ऊपर चढ़ गया और न केवल अपने राज्य को फिर से हासिल किया

बल्कि सभी दुश्मनों को हराकर, सभी का सम्राट बन गया। सच कहा गया है कि केवल बार-बार के प्रयासों से, कार्य सिद्ध हो जाता है, जानवर खुद सोते हुए शेर के मुंह में प्रवेश नहीं करते हैं, बल्कि वे शिकार करते हैं और उन्हें प्राप्त करते हैं। तो क्यों न आप अपनी क्षमताओं को अनंत बनाए रखें।