सफलता के कुछ नियम

ये हैं सफलता के राज।

एक बार एक असफल व्यक्ति एक सफल व्यक्ति तक पहुँच गया। उससे पूछा कि आपकी सफलता का राज क्या है? क्योंकि मैं भी सफल होना चाहता हूं। सफल व्यक्ति ने कहा कि मैंने असफल लोगों से सफल होना सीखा है। असफल व्यक्ति ने कहा, मुझे समझ नहीं आया कि आपने क्या कहा, कृपया अपनी बात स्पष्ट करें। तब उस सफल व्यक्ति ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया, पहले यह बताओ कि तुम असफल क्यों हुए? असफल व्यक्ति ने बताया कि पहले मैं एक अमीर व्यक्ति था।

सफल होने के लिए मैंने एक कंपनी खोली, जिसमें मैंने अपना बहुत सारा पैसा लगाया। मैं बहुत जल्दी सफल होना चाहता था। इसीलिए मैंने उसी साल एक और कंपनी खोली, जिसमें मैंने अपना बाकी पैसा लगा दिया। मैंने जल्दी में दो कंपनियां खोलीं और मैं अपनी किसी भी कंपनी को पूरा समय नहीं दे पाया। कुछ ही समय में दोनों कंपनियां घाटे में चलने लगीं। उस घाटे को कवर करने के लिए मेरे पास कोई पैसा नहीं बचा था। धीरे-धीरे कंपनी के घाटे बढ़ते गए और दूसरे वर्ष में मेरी दोनों कंपनियां बंद हो गईं।

आज मैं असफल हूं। अब सफल व्यक्ति ने कहा कि आपकी असफलता के दो कारण थे। एक, आपने एक ही वर्ष में दो कंपनियां खोलीं, ताकि आप किसी एक कंपनी को पूरा समय न दे सकें। दूसरे, आप अपना सारा पैसा अपनी कंपनियों में लगाते हैं और जब आपका नुकसान होता है, तो आपके पास इससे उबरने के लिए कोई पैसा नहीं बचता। क्या आप मेरी बात से सहमत हैं? असफल व्यक्ति ने कहा कि हाँ आप सही हैं और मैं आपसे सहमत हूँ। तो इस असफलता से आपने क्या सीखा?

असफल व्यक्ति ने कहा, मैं अपनी असफलता से क्या सीख सकता था, अगर सफल होता तो मैंने बहुत कुछ सीखा होता। सफल व्यक्ति ने कहा कि आपने अपनी असफलता से कुछ नहीं सीखा, यही कारण है कि आप अभी भी असफल हैं। लेकिन मैं आज एक सफल व्यक्ति हूं, असफल लोगों की असफलताओं से सीखता हूं। मैं असफल लोगों द्वारा की गई गलतियों से सीखता हूं और उन गलतियों को अपने जीवन में नहीं होने देता। यही मेरी सफलता का राज है।