हम स्वयं अपने मित्र हैं और स्वयं अपने ही शत्रु हैं

हम अपनी जिंदगी में स्वयं ही अपने मित्र और स्वयं ही अपने शत्रु बन सकते हैं। 

एक शहर में एक शीशे का महल था। उस महल की हर एक दीवार पर सैकड़ों दर्पण लगाए गए थे। एक दिन उस शीशमहल में एक आदमी बड़े ही गुस्से में उस महल को  देखने आया। परन्तु जब वह जब महल में घुसा तो उसने देखा की वह सैकड़ों लोगों को देखा जो बड़े ही आक्रोशित दिखाई दे रहे थे। वे सभी लोग उसी क्रोधित व्यक्ति से नाराज और दुखी दिखाई दे रहे थे।

उन सभी लोगों के चेहरे पर क्रोध की तरह-तरह  की भावनाओं को देखकर, वह व्यक्ति और अधिक क्रोधित हो गया और उन पर चिल्लाने लगा। उसी समय, उसने उसी क्रोध में सैकड़ों मनुष्यों को चिल्लाते हुए देखा। इतने लोगों को खुद पर गुस्सा आता देख, वह डर कर भाग गया। कुछ दूर जाने के बाद, उसने अपने मन में सोचा कि यह तो बड़ी बदतर जगह है। कुछ दिन बाद वह फिर किसी काम से वह उसी शीश महल में दोबारा गया।

परन्तु इस बार उसका स्वभाव बहुत शांतिप्रिय और प्यार करने वाले जैसा था। जैसे ही वह महल में दाखिल हुआ, उसे वहाँ एक दूसरा रूप मिला। शांत स्वाभाव जैसे उस के  सैकड़ों लोग उनका स्वागत करते देखे गए। उसे वहाँ सब खुश दिखाई दिए और उसने उस सैकड़ों मनुष्यों को खुशी और खुशी मनाते देखा गया। यह सब देखकर वह खुश हो गया। जब वह महल से बाहर आया, तो उसने महल को दुनिया का सबसे अच्छा स्थान माना और वहां का अनुभव उसके जीवन का सबसे अच्छा अनुभव था।

अंदर और बाहर की दुनिया भी एक ऐसा गिलास है जिसमें व्यक्ति उसकी सोच और विचारों के अनुसार ही प्रतिक्रिया मिलती है। जो लोग इस दुनिया को आनंद की दुनिया मानते हैं, वे यहां से हर तरह का सुख और आनंद लेते हैं। जो लोग इसे दुखों की जेल के रूप में मानते हैं, उनके बैग में दुःख और कड़वाहट के अलावा कुछ नहीं है। इसलिए हम अपने दोस्त और खुद हैं वह उसका दुश्मन है।