ये है खुश रहने का तरीका, इसे पाने के बाद, आप हमेशा खुश रहेंगे।

सारी दुनिया खुशियों के पीछे भाग रही है, लेकिन यह दूर होती जा रही है। 

इस संसार में हर व्यक्ति लोगों के सामने अपनी ख़ुशी दिखता है परन्तु अंदर से वह कितना दुखी है यह केवल वही जनता है। वह अपने तनाव को दूर करने के लिए कई व्यायाम करता है लेकिन यह केवल शीर्ष पर किया जाता है। दुनिया में ज्यादातर लोग ऐसा ही कर रहे हैं। वे बस भीतर से खुश रहने की कोशिश कर रहे हैं। उनका प्रयास दुख को नजरअंदाज करने की कोशिश तक सीमित है। उनके इस प्रयास से वह खुश होने के बजाय और भी अधिक तनावग्रस्त हो रहे हैं।

पेनसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के प्रोफेसर मार्टिन ईपी सेलिगमैन ने अपनी पुस्तक Flourish: A Visionary New Understanding of Happiness and Well Being में कुछ नए सूत्र खुशी के लिए दिए हैं। उन्होंने कहा कि केवल भीतर से खुश रहने की कोशिश और दुःख को नजरअंदाज करने का सिद्धांत भी नैतिक रूप से घातक साबित होता है। सेलिगमैन ने अब खुश होने के कुछ नए तरीकों का खुलासा किया है। सेलिगमैन ने किसी की आंतरिक क्षमता को पहचानने के लिए सबसे अधिक जोर दिया है।

उन्होंने लोगों को जीवन के केवल उन क्षणों को सूचीबद्ध करने का सुझाव दिया जब उन्होंने कुछ बहुत अच्छा काम किया था और जिसके द्वारा उन्हें न केवल खुशी महसूस हुई, बल्कि गर्व भी हुआ और इनमें से अधिकांश काम तब किए गए जब वह मुसीबत में थे। दिया। सेलिगमैन ने कहा है कि भले ही ये क्षण बहुत बड़े नहीं हैं, फिर भी ऐसे लोग होंगे जो आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण थे लेकिन छोटे हैं। उन्होंने इन घटनाओं के लिए एक कहानी तैयार करने के लिए एक अभ्यास दिया है। यह आपकी सच्ची कहानी होगी जो आपके जीवन की शुरुआत, मध्य और वर्तमान से संबंधित है।

सेलिगमैन कहते हैं कि इस कहानी को रोज पढ़ें और खुद से पूछें कि आपकी सबसे बड़ी गुणवत्ता क्या थी। सेलिगमैन को भरोसा है कि अगर लोग हर दिन ऐसा करना शुरू कर देंगे, तो उन्हें भरोसा होगा कि उनकी सबसे बड़ी आंतरिक गुणवत्ता क्या है। और जब वह दुखी या तनावग्रस्त होगा तो कहानी को बार-बार पढ़कर वह अपनी असली ताकत को पहचानने लगेगा। यह वह शक्ति है जो मुसीबत आने पर लोग भूल जाते हैं। उनका कहना है कि एक हफ्ते तक इस कहानी को बार-बार पढ़ने से वाकई फायदा होगा। फिर आपको उत्तर भी मिलेंगे।