संतोष का पेड़ कड़वा जरूर होता है परन्तु इसके फल हमेशा मीठे होते हैं

वक्त ही बड़े से बड़े मरहम को भर देता है। 

एक संत भगवान के सामने बड़ी शांति से प्रार्थना कर रहे थे। एक अमीर व्यापारी संत की भक्ति और ईमानदारी के प्रति निष्ठा देखकर बहुत प्रभावित हुआ। अमीर व्यापारी ने फैसला किया कि वह उन्हें सोने से भरा बैग देगा। अमीर व्यापारी ने संत से कहा, 'मुझे पता है कि आप इस पैसे का उपयोग भगवान के कामों में करेंगे, इसलिए इसे अपने पार रखें'।

संत ने यह सब सुना और कहा, 'इस तरह से आपसे पैसे लेना नैतिकता के खिलाफ है। क्या आप एक अमीर आदमी हैं और क्या आपके घर में ज्यादा पैसा है ’? अमीर आदमी ने कहा, हाँ मेरे पास घर पर एक हजार सोने के सिक्के हैं। संत ने उससे पूछा, 'क्या तुम एक हजार स्वर्ण मुद्राएं चाहोगे?

अमीर आदमी ने कहा, क्यों नहीं, रोज मैं कड़ी मेहनत करता हूं ताकि मैं ज्यादा से ज्यादा पैसा कमा सकूं। संत ने फिर पूछा, क्या तुम और भी सोने के सिक्के चाहते हो? अमीर व्यापारी ने जवाब दिया, हां मैं हर दिन भगवान से प्रार्थना करता हूं। तब संत ने थैला लौटाया और कहा, मैं आपसे पैसे नहीं ले सकता, क्योंकि एक अमीर आदमी एक भिखारी से पैसे कैसे ले सकता है।

इस पर, अमीर व्यापारी ने कहा, आप खुद को अमीर कैसे कह सकते हैं और मुझे भिखारी कह सकते हैं। तब संत ने जवाब दिया, 'मैं एक अमीर आदमी हूं, क्योंकि भगवान ने मुझे जो कुछ दिया है, उससे मैं संतुष्ट हूं, लेकिन आप एक भिखारी हैं, भगवान ने आपको बहुत कुछ दिया है लेकिन फिर भी आप भगवान से पूछते हैं और हमेशा असंतुष्ट रहते हैं।