जीवन में चाहे कितनी भी कठिन परिस्थिति क्यों न हो, अच्छाई को नहीं छोड़ना चाहिए

कैसे भी हालात हों, अपने अच्छे गुणों को कभी नहीं छोड़ना चाहिए 

एक दिन एक संत नदी में स्नान कर रहे थे। उनके शिष्य नदी के किनारे उनके कपड़े और अन्य वस्तुओं की देखभाल कर रहे थे। तभी उन्हें नदी में एक बिच्छू दिखाई देता है जो पानी से किनारे तक पहुंचने के लिए संघर्ष करता है। उन्होंने  बिना कुछ सोचे उस बिच्छू को बचाने के लिए अपनी हथेली पर रख लिया और किनारे पर पहुंचने लगा।

बिच्छू ने देखते ही उस साधु को डंक मार दिया। संत के  हाथों में तेज दर्द होने लगा लेकिन फिर भी उन्होंने बिच्छू को नहीं छोड़ा और उसे किनारे पर पहुँचाने की पूरी कोशिश की। यह देखते ही साधु के शिष्य सतर्क हो गए लेकिन भिक्षु ने कुछ भी करने से इनकार कर दिया। साधु अभी किनारे से थोड़ी दूरी पर ही थे कि उसके हाथ में दर्द तेज़ होता रहा।

उस समय, उनके शिष्यों  ने बोलना शुरू किया, आप कृपया बिच्छू को फेंक दीजिये, वह आपको फिर से डंक मार है। संत ने, उनके शब्दों को अनदेखा करते हुए, बिच्छू को एक सुरक्षित किनारे पर चूड दिया और बाद में बेहोश हो गए। उसके बाद संत के शिष्य, उन्हें  वैद्य  के पास ले गए और उनका इलाज करवाया।

होश में आने के बाद, संत ने कहा कि मुझे पता है कि मैं बिच्छू के डंक से मर सकता था। क्योंकि वह अपने स्वभाव के अनुसार डांक मार रहा था। यह उनका स्वभाव था लेकिन एक साधु का स्वभाव जीवन को बचाना है। मैंने भी वही किया। इसलिए, हमें सबसे कठिन परिस्थिति में भी अपनी अच्छाई नहीं छोड़नी चाहिए।