आपको जो मिला है उसके महत्व को समझें और कड़ी मेहनत करें

भगवान ने आपको जो दिया है उस के महत्त्व को समझें और जो नहीं दिया, उसे अपनी मेहनत से हासिल करें। 

एक अंधा आदमी शाम को सड़क के किनारे खड़ा होकर भीख माँगता था। सुबह से शाम तक उसके पास जितना पैसा इकठ्ठा होता, उसी से अपना गुजारा करता था. वह अपने ऐसे जीवन से बहुत दुःखी था। अपनी ऐसी जिंदगी से बहुत परेशान होकर वह हमेशा भगवान को कोसता था कि उन्होंने ऐसा जीवन क्यों दिया।

एक शाम कोई अमीर व्यक्ति वहाँ से गुजर रहा था। उसने उस अंधे को देखा और उसकी हालत पर बड़ी दया आकर उसके हाथ में सौ रुपये का नोट रख दिया और वह से चला गया। अंधे आदमी ने नोट को बड़े ध्यान से देखा और समझा कि किसी ने उसके साथ मजाक किया है क्योंकि अब तक उसे केवल 5 रुपये तक के नोट ही मिलते थे, जिसे हमेशा टटोल कर देखा करता था।

आज उसके पास सौ का नोट आया था जिसे उसने पहले कभी टटोल कर नहीं देखा था। इसलिए उसे सौ के नोट का अहसास नहीं था कि वह छूने में कैसा लगता है। उसने महसूस किया कि किसी ने उसके हाथ में केवल कागज का एक टुकड़ा रखा है और यह सोचकर उसने नोट को कागज के रूप में जमीन पर फेंक दिया।

एक सज्जन इस दृश्य को देख रहे थे, उसने नोट उठाया और उस अंधे व्यक्ति को देकर कहा कि यह 100 रुपये का नोट है जिसे तुमने कागज़ समझ कर फैंक दिया था। तब वह अंधा व्यक्ति बहुत खुश हुआ। शिकायत करने को छोड़कर, जो पाया जाता है उसके महत्व को समझना चाहिए और आगे बढ़ने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए।