समस्याओं की चिंता न करें बल्कि उनका सामना करते हुए जीवन का आनंद लें

जीवन की परेशानियों से हटें नहीं बल्कि जीवन का आनंद लेते हुए उनका सामना करें।

समस्याओं से घिरा हुआ एक व्यक्ति अपने जीवन से इतना परेशान था कि निराश होकर वह एक पहाड़ के पास बैठ गया। उसी समय कोई दार्शनिक वहां से गुजर रहा था। उसने युवक को निराश बैठे देखा और कहा कि तुम इतने निराश क्यों हो? युवक ने कहा, मैं बहुत निराश हूं। मेरे जीवन में कई समस्याएं हैं।

एक समस्या खत्म नहीं होती कि दूसरा खड़ा हो जाता है। दार्शनिक ने कहा, बस इतनी सी बात है। वे उसे अपने साथ ले गए। रास्ते में, वह एक ऊँटों के व्यापारी के पास रुका और उस व्यक्ति को वहाँ भी रुकने के लिए कहा।

जब वह रात को सोने जा रहा था, तो उसने उस ऊँटों के व्यापारी ने उस व्यक्ति से कहा कि आज मैं बहुत बीमार हूँ और सोने जा रहा हूँ इसलिए आज तुम ऊंटों का ध्यान रखना जब सभी ऊंट सो जाएंगे तब तुम भी सो जाना। व्यापारी की बात को मानते हुए, वह ऊंटों के सोने का इंतजार करता रहा।

सुबह व्यापारी और दार्शनिक उसके पास पहुँचे और कहा, क्या आपको अच्छी नींद आई थी. व्यक्ति ने जवाब दिया, वह पूरी रात सो नहीं सका। एक ऊंट सोता तो दूसरा ऊंट उठ जाता। दार्शनिक ने व्यक्ति को समझाया, जीवन भी ऐसा ही है। यदि एक समस्या उत्पन्न होती है, तो दूसरी खड़ी हो जाती है।