जीवन की समस्याओं से उलझें नहीं बल्कि उसको खुद सुलझाने का प्रयत्न करें।

समस्याओं को भ्रमित न करें, उनसे खुद जूझने की कोशिश करें। 

एक व्यक्ति कहीं रस्ते पर जा रहा था, अचानक उसे दिल का दौरा पड़ा लेकिन वह बच गया। इस घटना के बाद, उसके मन में एक डर सा बैठ गया। अब उसे उठते जागते यही डर सताने लगा। परेशान होकर वह एक मनोवैज्ञानिक के पास गया और कहा, एक अज्ञात भय के कारण मैं दिन रात परेशान होने लगा हूँ।

मेरे जीवन में कोई खुशी नहीं है। हमेशा एक दर से माहौल में रहता हूँ। उसकी परेशानी सुनकर मनोवैज्ञानिकों ने कहा, 'मैं अपने जीवन में एक कहानी सुनाता हूं। मुझे पढ़ने का बहुत शौक था और मेरे पास कई किताबें थीं। जिन्हें मई बेहद पसंद करता था।

लेकिन एक दिन एक चूहा घर में आया, जो आकर मेरी किताबें कुतरता रहता था। मैंने कई उपाय किए, लेकिन उस चूहे को को दूर नहीं भगा सका। उस चूहे के कारण मेरी रातों की नींद गायब हो गई। 'थोड़ा रुकते हुए उन्होंने कहा,' इससे पहले कि वह छोटा सा चूहा मेरे दिमाग में एक दानव का आकार लेता,

उससे पहले ही मैंने एक मजबूत अलमारी में जरुरी किताबें बंद करके रख दीं और बेकार किताबें चूहों के लिए छोड़ दीं। इस तरह मैं अपने इस डर से मुक्त हो गया और रात को चैन से सोने लगा। अन्यथा मेरा डर अभी तक एक राक्षस बन गया होता।