बुद्धिमान व्यक्ति वही होता है जो एक बार गलती करके संभल जाए

एक व्यक्ति जो बहुत कुछ खोने के बाद संभल चूका है, उसे बुद्धिमान माना जाता है।

जंगल में यात्रा के दौरान एक ऋषि अपना रास्ता भटक गए। रात शुरू होते ही उसने एक झोपड़ी देखी। उस झोपड़ी में रहने वाले व्यक्ति ने उनका बहुत सम्मान किया। सुबह, ऋषि ने उनके आतिथ्य से प्रसन्न होकर, उन्हें जंगल में चंदन के बगीचे के बारे में बताया। उस व्यक्ति को चन्दन की लकड़ी के बारे में कुछ नहीं पता था।

अगले दिन, जब वह व्यक्ति उस चंदन के बगीचे में पहुंचा, तो उसने चंदन के कई सरे पेड़ देखे। तब धीरे-धीरे उसने चंदन के पेड़ों की लकड़ी को जला कर कोयला बनाने और उन्हें शहर में बेचने के लिए काटना शुरू कर दिया। अब वह इसी से अपना गुजरा करने लगा। धीरे-धीरे, उसने चंदन के सभी पेड़ों को काट दिया और लकड़ी का कोयला बना कर शहर में ले जाकर बेच दिया।

अब जंगल में केवल आखिरी पेड़ बचा था। जब वह इस आखिरी पेड़ को काट रहा था, तभी बारिश हो गई। बारिश के कारण चंदन की लकड़ी को जलाया नहीं जा सकता था, तो उसने कोयले के बजाय बाजार में लकड़ी को ही बेचने का फैसला किया। जब वह चंदन की लकड़ी को बाजार में लेकर पहुंचा, तो लोगों ने इसे बड़ी महँगी कीमत पर खरीदा।

जब उसे लोगों से चंदन की विशेषता पता चली, तो उन्हें बहुत अफसोस हुआ। उसे परेशान देखकर, एक जानकार व्यक्ति ने इसका कारण पूछा, तो उसने बताया कि मैंने यह कीमती चंदन लकड़ी का कोयला बेचा है। इस पर, बुद्धिमान व्यक्ति ने कहा कि मित्र, उस वृक्ष का उपयोग करो जो तुम्हारे पास बचा है।