सफलता शॉर्टकट से नहीं, बल्कि संघर्ष से आती है।

सफलता को पाने के लिए शॉर्टकट नहीं अपनाना चाहिए, यह केवल संघर्ष से ही प्राप्त हो सकती है।

एक गरीब दंपत्ति जो एक सिद्ध महात्मा से मिलने आए थे, उन्होंने देखा कि एक कूड़े के ढेर पर एक सोने का दीपक पड़ा हुआ था। जब दंपति ने महात्मा से पूछा, तो महात्मा ने कहा कि यह दीपक तीन इच्छाओं को पूरा कर देता है परन्तु इस के साथ यहाँ दीपक बहुत खतरनाक भी है। जो भी इसे ले जाता है तो इसे यहां कचरे में वापस फेंक देता है।

दंपति ने महात्मा के जाते समय दीपक को उठाया और घर पहुंचने के बाद तीन वरदान मांगने के लिए बैठ गए। दंपति गरीब थे और उन्होंने सबसे पहले चिराग का परीक्षण करने के लिए दस लाख रुपये मांगे। जैसे ही उन्होंने पैसे मांगे, उसके बाद दरवाजे पर दस्तक हुई और दरवाजा खोल कर देखा कि एक आदमी आया और उसने रुपयों से भरा बैग और एक लिफाफा सौंपा दे कर चला गया।

लिफाफे में एक पत्र था जिसमें लिखा था कि आपके बेटे की मेरी कार से टकराने के बाद मृत्यु हो गई, जिसके बाद मैं इस दस लाख रुपये को क्षमा के रूप में भेज रहा हूं। यह सुनकर पत्नी रोने लगी। तब पति ने सोचा और उसने चिराग से दूसरी इच्छा पूछी कि उसका बेटा वापस आ जाए। थोड़ी देर बाद दरवाजे पर दस्तक हुई और पूरे घर में अजीब सी आवाजें आने लगीं।

घर के बल्ब तेजी से बाहर जलने लगे। उसका बेटा प्रेत बनकर लौटा था। दंपति भयभीत लग रहे थे और भयभीत थे और जल्दबाजी में प्रेत पुत्र की मुक्ति की कामना के लिए तीसरी इच्छा के रूप में चिराग की तलाश की। पुत्र की मुक्ति के बाद, वह रात भर आश्रम में पहुंचे और चिराग को कूड़े के ढेर पर फेंक दिया और दुखी मन से वापस लौट गए।

    Facebook    Whatsapp     Twitter    Gmail