मनुष्य अपनी सोच और नजरिये से महान बनता है

इंसान बड़ा नहीं होता बल्कि उसकी सोच बड़ी होती है। 

एक गाँव में पानी की बहुत समस्या थी। एक दिन गाँव के सभी लोग मुखिया गाँव जाकर पानी की समस्या बताई। लेकिन पानी की समस्या का कोई समाधान न होने के कारण, सभी लोगों ने गाँव छोड़ने का फैसला किया। लेकिन उसी समय वहाँ एक साधु गुजर रहा था, सभी ने साधु को अपनी समस्या बताई। जिसके बाद साधु ने  कहा कि मैं सभी को पानी दे सकता हूँ,

लेकिन मेरी एक शर्त है कि सभी रात में घर के बाहर अपने बर्तन रखेंगे। लेकिन कोई भी एक दूसरे के बर्तन या पानी को नहीं देखेगा और रोशनी होने से पहले बर्तन उठाएगा। सभी साधु की बात मान गए। लेकिन कुछ दिनों बाद गाँव के मुखिया ने सभी से पूछा कि क्या सभी को पर्याप्त पानी मिल रहा है।

तो किसी ने कहा कि मुझे पीने को मिलता है और किसी ने कहा कि मुझे नहाने के लिए भी मिलता है। इस अंतर को देखने के बाद, ग्रामीणों ने उस साधु से मिलने के लिए उसकी झोपड़ी में जाने का विचार किया। तब वहाँ पर साधु ने उत्तर दिया कि यह अंतर सभी की सोच में है। जिसके पास एक बड़ा विचार था उसने एक बड़ा बर्तन रख लिया।

और जिसके पास एक छोटा विचार था उसने एक छोटा बर्तन रख लिया। सफलता उन्हीं को मिलती है जो बड़ा सोचते हैं। हर कोई साधु की बात को समझ गया, जिसके बाद ग्रामीणों ने चार महीने की कड़ी मेहनत के बाद, गाँव से गाँव तक एक नदी के लिए खुदाई शुरू कर दी। जिसके बाद  सभी को भरपूर पानी मिलने लगा।