आचार्य चाणक्य के अनुसार बुद्धिमान व्यक्ति कुछ ख़ास बातें किसी को भी नहीं बतानी चाहिए

चाणक्य नीति के अनुसार बुद्धिमान व्यक्ति को ये बातें कभी किसी को नहीं बतानी चाहिए

आचार्य चाणक्य राजनीति के प्रकाण्ड विद्वान थे. आचार्य चाणक्य ने चन्द्रगुप्त जोकि एक चरवाहा था को एक महान सम्राट बनाया. आचार्य चाणक्य ने उसकी प्रतिभा को परखा और उसे चाणक्य नीति की शिक्षा दी. चाणक्य की नीतियों पर चल कर कई साम्राज्य स्थापित हुए. उसकी बनाई नीतियां आज के समय में भी बेहद प्रासंगिक हैं. 

आचार्य चाणक्य ने अपने इस ज्ञान को चाणक्य नीति में में संकलित किया है. चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य द्वारा वर्णित नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं. आज हम आपके लिए हिंदी साहित्य मार्गदर्शन के साभार से लेकर आए हैं आचार्य चाणक्य की कुछ नीतियां. आचार्य चाणक्य के अनुसार बुद्धिमान व्यक्ति को नीचे दी हुई बातें किसी को नहीं बतानी चाहिए ...

चाणक्य नीति ने कहा कि एक बुद्धिमान व्यक्ति को कभी भी अपने बारे में ये खुलासा नहीं करना चाहिए कि अब वो कंगाल हो चुका है. अगर वो ऐसा करता है तो समाज में उसकी प्रतिष्ठा को आघात पहुंचता है. चाणक्य नीति के अनुसार एक व्यक्ति जोकि बुद्धिमान है को कभी भी अपने मनोभाव को आक्रोश के साथ व्यक्त नहीं करना चाहिए. अगर आपको गुस्सा आता है तो कभी भी उसे खुले तौर पर जाहिर नहीं करना चाहिए.

चाणक्य नीति के अनुसार, एक बुद्धिमान व्यक्ति को कभी भी समाज में पत्नी के गलत व्यवहार के बारे में नहीं बताना चाहिए. ऐसा करने से समाज में व्यक्ति का मान-सम्मान धूमिल हो सकता है. चाणक्य नीति के अनुसार, एक बुद्धिमान व्यक्ति को कभी भी समाज में अपने अपयश, बेइज्जती और कटु शब्दों की बाद नहीं स्वीकारनी चाहिए.