क्रिएटिव “ऑटो अन्ना” की शानदार कहानी

क्या आपने कभी किसी ऐसे ऑटो ड्राइवर के बारे में सुना है जो अपने ग्राहको के लिए अपने छोटे से ऑटो रिक्शा में कई प्रकार की कस्टमर-फ्रेंडली सुविधायें जैसे अख़बार, मैगज़ीन, टीवी, टेबलेट आदि प्रदान करता है,

अपने आप में अनोखे और इकलौते इस ऑटो ड्राइवर का नाम वैसे तो अन्ना दुरई है, पर लोग उन्हें ‘ऑटो अन्ना’ के नाम से ज्यादा जानते हैं।उनकी उम्र करीब 30 वर्ष है और वह एक स्कूल ड्रॉप-आउट हैं| वे चेन्नई के थिरुवनमयुर-शौलिंगनलूर मार्ग पर एक शेयर-ऑटो चलाते हैं| अन्ना दुरई, देश के सबसे ज्यादा कस्टमर-फ्रेंडली ऑटो ड्राइवर हैं, जो यात्रियों को विभिन्न प्रकार की सुविधाएँ देते है और यही कारण है कि पिछले कई वर्षों से वह खबरों में बने हुए हैं| अन्ना, मूलतः थंजावुर जिले के पेरावूरणी से हैं, जो चार साल की उम्र में अपने दो भाइयों और एक बहन के साथ चेन्नई शहर में आ गए और पिछले कई वर्षों से ऑटो चलाने का काम कर रहे हैं। 

उनके शेयर-ऑटो में एक बार में 6 यात्री सवार हो सकते हैं और अन्ना अपने ऑटो को ज्यादातर चेन्नई के आईटी कॉरिडोर में ही चलाते हैं| पहले-पहल तो वो भी एक आम ऑटो ड्राइवर की तरह ही काम किया करते थे, परन्तु उनके लिए उनके ग्राहक यानी उनकी सवारियाँ भगवान के सामान थीं| उनके लिए उनकी सवारियों की संतुष्टि से अधिक कुछ भी मायने नहीं रखता| वह उन लोगों में से नहीं थे जो एक अच्छी सोच तो रखते हैं, पर उसे अमल में लाने का हौसला नहीं रखते| इसलिए एक दिन उनके मन में एक ख्याल आया कि उन्हें अपने ग्राहकों (सवारियों) को अच्छी सर्विस देनें और उनकी संतुष्टि के लिए कुछ अलग करना चाहिए और तब उन्होंने अपनी ऑटो में 20 अलग-अलग प्रकार के अखबारों और मैगज़ीन को रखना शुरू कर दिया|

वह यात्री-सुविधाओं को बढ़ाने में इस हद तक आगे बढ़ गए कि जहाँ वे सिर्फ 15 हजार रूपये कमाया करते, वहीं 8 हजार रूपये तो यात्री-सुविधाओं में ही खर्च कर दिया करते| वे अख़बार और मैगजीन तक ही सिमित नहीं रहे और उन्होंने कुछ पैसे जमा करके अपने ऑटो में वाई-फाई भी लगवाया| उसके बाद अपने उन यात्रियों के लिए उन्होंने 7 हजार रुपए में एक टैबलेट खरीदा, जिनके पास इंटरनेट सर्फ करने के लिए स्मार्टफोन नहीं था| पर क्योंकि उनकी ज्यादातर सवारियाँ आईटी सेक्टर से होती थीं, इसलिए उन्हें लगा की शायद वह टैबलेट उनकी सवारियों के लिए नाकाफी है और फिर उन्होंने अगले कई महीनों तक पैसे इक्कठे किए और एक महँगा टैबलेट खरीदा|

इसके अलावा उनके ऑटो में एक छोटा टीवी सेट भी है, ताकि यात्री, यात्रा करने के साथ साथ अपना मनोरंजन कर सकें| अगर उनके यात्री को अचानक अपने प्रीपेड मोबाइल को रिचार्ज करने की आवश्यकता पड़ जाए तो उन्हें किसी दूकान में जाने की भी जरुरत नहीं पड़ती, क्योंकि अन्ना ने इसका भी इंतजाम अपने ऑटो के अंदर ही कर रखा है| इतना ही नहीं, अगर आप टीवी देखने या इन्टरनेट पर जाने के इच्छुक न हों तो भी आपको अपने सफर में ऊबने की जरुरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि अन्ना के ऑटो में हमेशा 40 अलग-अलग पत्रिकायें भी रखी रहती हैं|