नमक का स्वाद : नैतिक कहानी हिंदी में

A Moral Story in Hindi

एक बार एक परेशान और निराश व्यक्ति अपने गुरु के पास आया और कहा - "गुरुजी, मैं जीवन से बहुत परेशान हूं। मेरे जीवन में परेशानियों और तनाव के अलावा कुछ नहीं है। कृपया मुझे सही रास्ता दिखाएं।" गुरु ने एक गिलास में पानी भरा। इसमें एक मुट्ठी नमक डालें।

तब गुरु ने उस व्यक्ति को पानी पीने के लिए कहा।  उस व्यक्ति ने ऐसा ही किया। गुरु: - इस पानी का स्वाद कैसा है? "यह बहुत बुरा है" व्यक्ति ने कहा। तब गुरु व्यक्ति को पास के तालाब में ले गए। गुरु ने उस तालाब में एक मुट्ठी नमक डाला और फिर उस व्यक्ति से कहा - इस तालाब का पानी पियो और बताओ कि यह कैसा है।

उस व्यक्ति ने तालाब का पानी पिया और कहा - गुरुजी यह बहुत मीठा है। गुरु ने कहा - "पुत्र, जीवन के दुख भी इसी मुट्ठी भर नमक की तरह होते हैं। जीवन में दुखों की मात्रा समान ही रहती है - न अधिक न कम।

लेकिन यह हम पर निर्भर करता है कि हम दुख का कितना स्वाद लेते हैं। यह हम पर निर्भर करता है। हम एक ग्लास की तरह अपनी सोच और ज्ञान को सीमित करते हैं और प्रतिदिन खारा पानी पीते हैं या तालाब जैसा मीठा पानी पीते हैं।