नकारात्मकता के माहौल को एक तरफ कर आगे बढ़ते रहें।

बॉलीवुड का गाना, "कुछ तो लोग कहेंगे लोगों का काम है कहना..." शायद इस कहानी से ही प्रेरित होकर बना हो।

घटना उस समय की है जब भीषण गर्मी थी। एक पिता अपने बेटे और घोड़े के साथ एक गाँव की कच्ची सड़क से गुजर रहा था। पुत्र की आयु लगभग 17 वर्ष और पिता की 42 वर्ष थी। पिता ने अपने बेटे को घोड़े पर रखा। पिता घोड़े पर चल रहे थे। दोनों अच्छे मूड के साथ अपने घर की ओर जा रहे थे। तभी रास्ते में एक युवक ने कहा - वह कैसा लड़का है, पिता चल रहा है, खुद घोड़े पर बैठकर आनंद ले रहा है। बेटा गौरवान्वित था। उसे शर्म महसूस हुई। वह तुरंत उतरा और अपने पिता को घोड़े पर बैठा दिया।

अब घोड़े पर पिता और वह चलता है। वह आधा किलोमीटर आगे चला था जब कुछ लोगों ने कहा कि वह कह रहा है कि पिता कैसा है, लड़का चल रहा है, खुद को घोड़े पर बैठकर आनंद ले रहा है। पिता अब और नहीं है, और वह भी घोड़े से उतर जाता है। दोनों घोड़े के साथ चलने लगे। थोड़ा आगे जाने पर, कुछ लोगों ने समूह द्वारा उसका मजाक उड़ाया। कहा कि घोड़े ... मूर्ख होते हुए भी वे पैदल जा रहे हैं। दोनों भिड़ गए। उसके बाद, दोनों ने घोड़े पर चढ़कर आगे की दूरी शुरू कर दी।

आगे, कुछ लोग टकरा गए। उन्होंने कहा कि पिता और पुत्र दोनों पागल हो गए हैं। घोड़े की जान लेने के बाद ही स्वीकार करेंगे। दोनों तुरंत घोड़े से उतरे और पेड़ के नीचे बैठ गए। दोनों सोचने लगे कि दुनिया हमें किसी भी परिस्थिति में जीने नहीं देगी। पिता ने बेटे से कहा - देखो बेटा… जब तुम अपनी मंजिल की ओर बढ़ रहे हो, तो समाज के कई लोग तुम्हारा पैर खींच लेंगे। लेकिन आप मजबूत रहें। बॉलीवुड गीत, "कुछ लोग कहेंगे लोगों के पास कहने के लिए एक काम है ..." शायद यह इंगित करता है।

ये दो सबक इस कहानी से मिलते हैं -
1- आप चाहे जितना भी आपका या आपके काम का मजाक उड़ा रहे हों, आपको अपने काम पर डटे रहना चाहिए। चाहे आपकी गली हो या ऑफिस। जब आप आगे बढ़ेंगे तो सभी लोग आपसे हर तरह की बातें करेंगे। कई लेग पुलर होंगे। लेकिन आपको दूसरों की नकारात्मक बातों को दरकिनार कर सफलता का शिखर हासिल करने के लिए आगे बढ़ते रहना होगा।
2. हमें हर उस आवाज को नजरअंदाज करने की जरूरत है जो हमें कमजोर बनाती है। इस पर ध्यान देने के बजाय अपने लक्ष्य की ओर बढ़ते रहें।